30.1 C
New Delhi
Saturday, June 19, 2021

हरियाणास्य मेवातम् हरियाणास्य न्यूनम् पकिस्तानम् वा ? हरियाणा का मेवात या हरियाणा का मिनी पाकिस्तान ?

Must read

हिन्दूनाम् शवाधानस्थलम् मेवातम्, १०३ ग्राम हिन्दू विहीनम्, ८४ ग्रामेषु केवलम् ४- ५ कुटुंबेव शेषम् सन्ति ? १९४७ तमस्य काले मेवाते सम्भवम् ३० प्रतिशतम् हिन्दूम् आसीत्, जनपदस्य हिन्दूम् जनसंख्याम् सम्भवम् ११ लक्ष आसीत् तु सम्प्रति २०११ तमस्य जनगणनाया: अनुसारम् केवलं १५ प्रतिशतम् हिन्दूमेव अत्र सन्ति !

हिंदुओं का कब्रिस्तान मेवात, 103 गांव हिन्दू विहीन, 84 गांवों में केवल 4 – 5 परिवार ही बचें हैं ? 1947 के समय में मेवात में लगभग 30 प्रतिशत हिन्दू थे, जिले की हिन्दू आबादी लगभग 11 लाख थी लेकिन अब 2011 की जनगणना के अनुसार मात्र 15 प्रतिशत हिन्दू ही यहां हैं !

हरियाणास्य मेवात क्षेत्रम् कट्टरवादिनानि बहु प्रथमेव बँग्लादेशम् अनिर्मयते ! बँग्लादेशे सम्भवम् ८ प्रतिशतम् हिन्दूम् अवशेषम् सन्ति, इदृषि स्थितिम् मेवातस्यापि अभवत् ! अपितु १९४७ तमे बँग्लादेशे सम्भवम् ३० प्रतिशतम् हिन्दूम् आसीत् मेवाते अपि च् सम्भवम् ३० प्रतिशतम् हिन्दूम् आसीत् !

हरियाणा के मेवात क्षेत्र को कट्टरवादियों ने बहुत पहले ही बंगलादेश बना दिया है ! बंगलादेश में करीब 8 प्रतिशत हिन्दू रह गए हैं, यही स्थिति मेवात की भी हो गई है ! जबकि 1947 में बंगलादेश में करीब 30 प्रतिशत हिन्दू थे और मेवात में भी लगभग 30 प्रतिशत हिन्दू थे !


भारतम् विश्वस्य सर्वात् अधिकम् हिन्दूम् जनसँख्याम् देशम् अस्ति तु यति वृहद जनसंख्यास्य उपरांतपि किं अस्माकं अधिकारणाम् सम्पूर्ण देशे संरक्षणम् न भवति, कश्मीरात् कदा हिन्दू जनसंख्याम् बलात पलायते ! कुत्र कश्चित अप्रियम् घटनाम् हिन्दूनि सह भवति !

भारत दुनिया का सबसे ज़्यादा हिंदू आबादी वाला देश है लेकिन इतनी बड़ी आबादी के बावजूद भी क्या हमारे अधिकारो का पूरे देश में संरक्षण नहीं हो रहा है , कश्मीर से कभी हिंदू आबादी को ज़बरन भगा दिया जाता है ! कहीं कोई अप्रिय घटना हिंदुओं के साथ होती है !

विनोद बंसल: राष्ट्रीय प्रवक्ताम् विश्व हिन्दू परिषदस्य पुरातन एकम् ट्वित पश्यस्य उपरांत मनः द्रवितम् अभवत् पुनः च् परिमेवातम् ज्ञातुं इच्छाम् अभवत्, अहम् ज्ञायानि, भवानपि ज्ञायन्तु !

विनोद बंसल राष्ट्रीय प्रवक्ता विश्व हिन्दू परिषद की पुरानी एक ट्वीट देखने के बाद मन द्रवित हो गया और फिर मेवात के बारे में जानने की इच्छा हो गयी, मैंने जाना, आप भी जानिए !

मेवात जनपदम् भारतस्य हरियाणा राज्यस्य २२ जनपदेषु एकम् अस्ति, अस्य जनपदस्य क्षेत्रफलम् सम्भवम् १८६० वर्ग किलोमीटर इति अस्ति, इयम् पूर्वम् गुड़गांव जनपदस्य अंशम् आसीत्, ४ मई २००५ तमम् मेवातम् नव जनपदम् अनिर्म्यते नूंहम् जनपदस्य मुख्यालयस्य स्थानम् अप्रदत्ते ! मेवात जनपदे सम्पूर्णम् षड प्रखण्डम् सन्ति पुन्हानाम्, फिरोजपुरम्, झिरकाम्, नगिनाम्, नूंहम्, तावडुम् हथीनम् च् ! अयम् देशस्य राजधानीम् दिल्लीतः केवलं ६० किलोमीटर इत्यस्य द्रुते अस्ति !

मेवात जिला भारत के हरियाणा राज्य के 22 जिलों में एक है, इस जिले का क्षेत्रफल लगभग 1,860 वर्ग किलोमीटर है, यह पहले गुड़गांव जिले का हिस्सा था, 4 मई 2005 को मेवात को नया जिला बनाया गया और नूंह को जिला मुख्यालय का दर्जा दिया गया ! मेवात जिले में कुल छह प्रखंड हैं पुन्हाना, फिरोजपुर, झिरका, नगीना, नूंह, तावडू और हथीन ! यह देश की राजधानी दिल्ली से मात्र 60 किलो मीटर की दूरी पर है !

मेवात एकम् मुस्लिम – क्षेत्रम् अस्ति, अत्र मेव मुस्लिमानाम् अधिपात्यम् अस्ति, पूर्वम् मेव मुस्लिम हिन्दू एव आसीत्, तु मध्य काले मुस्लिम शासकानि अस्य बलात मुस्लिमम् अबनायत् !

मेवात एक मुस्लिम – बहुल इलाका है, यहां मेव मुसलमानों का दबदबा है, पहले मेव मुस्लिम हिन्दू ही थे, लेकिन मध्य काल में मुस्लिम शासकों ने इनको बलपूर्वक मुसलमान बनाया !

मेवातैव १९२६ तमे मौलाना मोहम्मद इलियास कंधालवी: तब्लीगी जमातस्य स्थापनां अकरोत् स्म ! दिल्लीम् निकषा भवोपरांतापि स्वतंत्रतासि ७० वर्षानां उपरांतापि इयम् भारतस्य पश्चानि जनपदेषु एकम् सन्ति ! कारणम् स्पष्टम् अस्ति जातीय कट्टरतां !

मेवात में ही 1926 में मौलाना मोहम्मद इलियास कंधालवी ने तब्लीगी जमात की स्थापना की थी ! दिल्ली के नजदीक होने के बाद भी आजादी के सत्तर सालों के बाद भी यह भारत के पिछड़े जिलों में एक है ! कारण साफ है मजहबी कटृरता !

अत्रे सक्रियम् तब्लीगी जमातस्य जनः हिन्दूनि मूर्खम् बनित्वा तस्य धर्म परिवर्तनं कृतेपि प्रयत्नशीलम् अस्ति ! खुफिया संस्थानि २०११ तमम् २०१६ तमे च् अत्रस्य कट्टरपंथीनाम् अलकायदास्य सम्पर्केन सम्मिलितस्यापि उद्घाटनम् अकरोत् स्म ! दिल्ली आरक्षकस्य मुख्य टुकड़ीम् अत्रात् आतंकिमपि अग्रहयते !

यहां पर सक्रिय तब्लीगी जमात के लोग हिन्दुओं को मूर्ख बना उनका कन्वर्जन करने में भी जुटी है ! खुफिया एजेंसियों ने 2011 और 2016 में यहां के कटृरपंथियों के अलकायदा के नेटवर्क से जुड़े होने का भी खुलासा किया था ! दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल यहां से आतंकी भी गिरफ्तार कर चुकी है !

सम्प्रति सम्पूर्ण मेवातम् पकिस्तानस्य रूप दास्यम् प्रयत्नम् तिव्रेन भवति ! अद्य हरियाणास्य मेवाते हिन्दूनि सह तत् सर्वम् भवति यत् बंग्लादेशे पकिस्ताने च् हिन्दूनि सह भवति ! हिन्दू बालिकायाः महिलायाः च् अपहरणम्, तस्य धर्मान्तरणम् पुनः च् कश्चित् मुस्लिमम् सह बलात निकाहम् इति !

अब पूरे मेवात को पाकिस्तान की शक्ल देने का प्रयास तेजी से हो रहा है ! आज हरियाणा के मेवात में हिन्दुओं के साथ वह सब हो रहा है जो बंगलादेश या पाकिस्तान में हिन्दुओं के साथ होता है ! हिन्दू लड़कियों और महिलाओं का अपहरण, उनका मतान्तरण और फिर किसी मुस्लिम के साथ जबरन निकाह !

हिन्दूनाम् बलात मुस्लिमम् धर्मान्तरणम्, हिन्दू बनिजै: बलात धनस्य अग्राह्येत, मन्दिराया: श्मशानस्य च् भूखंडेषु अधिपात्यम् कृत्येत, बँग्लादेशिम् घुसपैठीनाम् बसेयत्, हिन्दूनाम् अनृत कानूनी कार्ये लिप्तेत्, हिन्दूनाम् यत्र लुण्ठकम् कार्यम् क्रियेत् ! कुष्ठे कच्छुरम् इयम् तत प्रशासनेनापि हिन्दूनाम् उपेछाम् साधरणम् वार्ता अभव्यते !

हिन्दुओं को जबरदस्ती मुसलमान बनाना, हिन्दू व्यापारियों से जबरन पैसे की वसूली करना, मंदिरों और श्मशान के भूखंडों पर कब्जा करना, बंगलादेशी घुसपैठियों को बसाना, हिन्दुओं को झूठे मुकदमों में फंसाना, हिन्दुओं के यहां डाका डालना ! कोढ़ में खाज यह कि प्रशासन द्वारा भी हिन्दुओं की उपेक्षा आम बात हो गयी है !

सततं बर्ध्यति मुस्लिमम् जनसंख्याम् हिन्दुषु भवति अत्याचारम् कारणम् हिन्दू कुटुंबम् अत्रात् पलायनम् कृतस्य बाध्यम् सन्ति अत्रस्य अधिकांशतः हिन्दू जनसंख्याम् गुड़गांवम्, दिल्लीम् इत्यदयः नगरेषु अबसयत् !

लगातार बढ़ती मुस्लिम आबादी और हिंदुओं पर हो रहे अत्याचारों के चलते हिंदू परिवार यहां से पलायन करने को बाध्य हैं यहां की अधिकतर हिंदू आबादी गुड़गांव, दिल्ली आदि शहरों में बस चुकी है !

मेवातस्य सर्वम् ५०४ ग्रामम् सम्भवतः हिन्दू विहीनम् अभव्यते ! कश्चित् – कश्चित् ग्रामे हिन्दूनाम् द्वय – चत्वारः कुटुंबेव शेषम् सन्ति ! भाजपा सरकारम् आगतेन उपरांत विरामम् तर्हि अलगयत् तु स्थितिम् यथास्य तथा ! भारत सर्कारम् यंप्रति ध्यानम् न अददात् तर्हि अत्र शेष हिन्दूमपि पलायनम् करिष्यते ! पुनः अस्य क्षेत्रम् पकिस्तानम् निर्मितेन कोपि विरामम् न शक्नोति !

मेवात के सभी 504 गांव लगभग हिन्दू विहीन हो चुके हैं ! किसी – किसी गांव में हिन्दुओं के दो – चार परिवार ही रह गए हैं ! भाजपा सरकार आ जाने के बाद रोक तो लगी है लेकिन स्थित ज्यों की त्यों ! भारत सरकार ने इस ओर ध्यान नहीं दिया तो यहां बचे हिन्दू भी पलायन कर जाएंगे ! फिर इस इलाके को पाकिस्तान बनने से कोई रोक नहीं सकता है !

Disclaimer The author is solely responsible for the views expressed in this article. The author carry the responsibility for citing and/or licensing of images utilized within the text. The opinions, facts and any media content in them are presented solely by the authors, and neither Trunicle.com nor its partners assume any responsibility for them. Please contact us in case of abuse at Trunicle[At]gmail.com

- Advertisement -

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest article