23.1 C
New Delhi
Tuesday, November 30, 2021

क्वाड सभायां अबदत् विदेशमंत्री:, भारतम् विधि आधारितं वैश्विक व्यवस्थाय प्रतिबद्धम् ! क्‍वाड बैठक में बोले विदेश मंत्री, भारत नियम आधारित वैश्विक व्‍यवस्‍था के लिए प्रतिबद्ध !

Must read

चिनेन सह कलहस्य मध्य विदेशमंत्री: एस. जयशंकर: अकथयत् तत भारत विधि आधारितं विश्व व्यवस्थाम्, क्षेत्रीय अखंडतास्य संप्रभुतास्य च् सम्मानम् कलहानां शांतिपूर्ण समाधानस्य च् पक्षधरमस्ति !

चीन के साथ तनाव के बीच विदेश मंत्री एस. जयशंकर ने कहा कि भारत नियम आधारित विश्‍व व्‍यवस्‍था, क्षेत्रीय अखंडता एवं संप्रभुता के सम्‍मान तथा विवादों के शांतिपूर्ण समाधान का पक्षधर है !

क्वाड देशानां द्वितीयकम् मंत्रिस्तरीय सभाया: कालम् सः मुक्त हिन्द-प्रशांत क्षेत्रस्य अधिवाचनमपि अकरोत्, यत्र चिनस्य हस्तक्षेपम् पूर्व केचन कालेन सततं बर्ध्यति ! वस्तुतः इति क्रमे सः चिनस्य न अकथयत् !

क्वाड देशों की दूसरी मंत्रिस्तरीय बैठक के दौरान उन्‍होंने मुक्‍त हिन्द-प्रशांत क्षेत्र की वकालत भी की, जहां चीन का दखल पिछले कुछ समय से लगातार बढ़ रहा है ! हालांकि इस क्रम में उन्‍होंने चीन का नाम नहीं लिया !

saabhar ani

क्वाड चत्वारः देशानां समूहमस्ति, यस्मिन् अमेरिकाम्, भारतम्, आस्ट्रेलियाम्, जयपानम् सम्मिलतानि सन्ति ! अस्य प्रथम मंत्रिस्तरीय सभाम् २०१९ तमे न्यूयॉर्के अभवत् स्म ! तत्रैव द्वितीयकम् मंत्रिस्तरीय सभाम् टोक्यो इते भवति !

क्वाड चार देशों का समूह है, जिसमें अमेरिका, भारत, ऑस्ट्रेलिया और जापान शामिल हैं ! इसकी पहली मंत्रिस्तरीय बैठक 2019 में न्यूयॉर्क में हुई थी ! वहीं दूसरी मंत्रिस्‍तरीय बैठक टोक्‍यो में हो रही है !

यस्मिन् चर्चाया: मुख्यविषयम् हिन्द-प्रशांत क्षेत्रस्य स्वतंत्रतामस्ति ! सभाया: कालम् विदेश मंत्री: अकथयत् तत इयम् अवसरम् प्रकटयति तत महमारिस्य कारणम् उत्पन्न अभवत् विभिन्नम् अहवानां योद्धम् कृताय केन प्रकारम् समिच्छानि देशानां सम्मिलित्वा समन्वितम् पगम् उत्थायस्य अवश्यक्तामस्ति !

इसमें चर्चा का मुख्‍य विषय हिन्द-प्रशांत क्षेत्र की स्‍वतंत्रता है ! बैठक के दौरान विदेश मंत्री ने कहा कि यह अवसर दर्शाता है कि महामारी के कारण पैदा हुई विभिन्‍न चुनौतियों का मुकाबला करने के लिए किस तरह समान सोच वाले देशों को मिलकर समन्वित कदम उठाने की आवश्‍यकता है !

अस्माकं देशानि स्पष्टम् समावेशीम् च् भारत- प्रशान्तस्य स्थायित्वस्य महत्वे सामूहिक रूपेण प्रतिबद्धताम् स्पष्टयते ! वयं विधेषु आधारितं वैश्विक व्यवस्थाय प्रतिबद्धम् ! येन विधिस्य शासनम्, अंतर्राष्ट्रीय वारिधेषु नौवहनस्य समर्थनम् प्राप्तम् असि !

हमारे देशों ने खुले और समावेशी भारत-प्रशांत को कायम रखने के महत्व पर सामूहिक रूप से प्रतिबद्धता जताई है ! हम नियमों पर आधारित वैश्विक व्यवस्था के लिए प्रतिबद्ध हैं ! जिसे कानून के शासन, अंतरराष्ट्रीय समुद्रों में नौवहन का समर्थन हासिल हो !

अस्माकं उद्देश्य हिन्द-प्रशांते वैध महत्वपूर्णम् च् हितानि देशानां आर्थिक हितानि सुरक्षाम् वा अग्रम् बर्धनमस्ति ! इयम् सन्तुष्टिस्य वार्तामस्ति तत हिन्द-प्रशांत संकल्पनाम् विस्तृत रूपेण स्वीकृति प्राप्यति !

हमारा उद्देश्य हिन्द-प्रशांत में वैध और महत्वपूर्ण हितों वाले देशों के आर्थिक हितों व सुरक्षा को आगे बढ़ाना है ! यह संतोष की बात है कि हिन्द-प्रशांत संकल्पना को व्यापक रूप से स्वीकृति मिल रही है !

इत्यात् पूर्वम् सः स्व अमेरिकी समकक्षम् माइक पोम्पिओ: इत्येन मेलनम् अकरोत् स्म ! इति कालम् द्वयो विदेश मंत्रिणौ द्विपक्षीय सम्बन्धाभ्यां संलग्नम् विभिन्नम् क्रोडानि हिन्द- प्रशांत क्षेत्रे स्थिरतां सुनिश्चित कृतस्य मार्गेषु चर्चामकरोत् ! विदेशमंत्री: एस. जयशंकर: जयपानस्य प्रधानमंत्री: योशिहिदे सुगा इत्येन मेलनम् अकरोत् ! अस्य अतिरिक्तम् सः अमेरिकाया:, जयपानस्य आस्ट्रेलियाया: च् स्व समकक्षै: अपि अमेलयत् !

इससे पहले उन्‍होंने अपने अमेरिकी समकक्ष माइक पोम्पिओ से मुलाकात की थी ! इस दौरान दोनों विदेश मंत्रियों ने द्विपक्षीय संबंधों से जुड़े विभिन्न पहलुओं और हिन्द-प्रशांत क्षेत्र में स्थिरता सुनिश्चित करने के तरीकों पर चर्चा की ! विदेश मंत्री एस जयशंकर ने जापान के प्रधानमंत्री योशिहिदे सुगा से मुलाकात की ! इसके अतिरिक्‍त वे अमेरिका, जापान और ऑस्ट्रेलिया के अपने समकक्षों से भी मिले !

Want to express your thoughts, write for us contact number: +91-8779240037

Disclaimer The author is solely responsible for the views expressed in this article. The author carry the responsibility for citing and/or licensing of images utilized within the text. The opinions, facts and any media content in them are presented solely by the authors, and neither Trunicle.com nor its partners assume any responsibility for them. Please contact us in case of abuse at Trunicle[At]gmail.com

- Advertisement -

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest article