22.1 C
New Delhi
Monday, October 18, 2021

का शिवसेना निर्मितस्य मार्गे तर्हि न अकाली दलम् ? क्या शिवसेना बनने की राह पर तो नहीं अकाली दल ?

Must read

बाला साहेब ठाकरेस्य निधनस्य उपरांत येन प्रकारेण उद्धव ठाकरे: पुत्र प्रेमे स्थित्वा भाजपेन सह त्यक्तवा कांग्रेसेन सह प्रेम प्रदर्शन कृत सरकार निर्मयतः, यस्य कारणम् एक हिन्दू वादी दलस्य हिन्दू विरोधिन् गतिविधेषु उपस्थितम् पंजीकृत भवति तम् प्रकारम् स्व राजनीतिक पिपासाम् पूर्ण कृताय अकाली दलस्य इयम् कुटनीतिक धूर्तता तर्हि न ?

बाला साहेब ठाकरे के निधन के बाद जिस प्रकार से उद्धव ठाकरे पुत्र प्रेम में पड़कर भाजपा का साथ छोड़कर कांग्रेस के साथ प्रेम प्रदर्शन कर सरकार बनाते हैं, जिसके कारण एक हिन्दू वादी पार्टी की हिन्दू विरोधी गतिविधियों में उपस्थिति दर्ज हो रही है उसी प्रकार अपनी राजनीतिक पिपासा को पूर्ण करने के लिए अकाली दल की यह कूटनीतिक चाल तो नहीं ?

कृषकेभ्य: आगतवान नव विधेयकानां विरोधे अकाली दलेन मंत्री हरसिमरत कौर बादल त्यागपत्रम् अददात् ! कौर एन विधेयकानि कृषक विरोधिन् अबदत् ! सा गुरूवासरम् अकथयत् तत कृषकस्य जाया भगिन्या: रूपे स्थित भवित्वा स्वयम् गौरान्वितम् मान्यतु !

किसानों के लिए आ रहे नए विधेयकों के विरोध में अकाली दल से मंत्री हरसिमरत कौर बादल ने इस्तीफा दे दिया है ! कौर ने इन विधेयकों को किसान विरोधी बताया है ! उन्होंने गुरुवार को कहा कि वह किसान की बेटी एवं बहन के रूप में खड़ी होकर खुद को गौरवान्वित महसूस कर रही हूँ !

पंजाबस्य कृषक एन अध्यादेशानां विधेयकानां च् विरोधम् कुर्वन्ति यस्य ज्वाला अकाली दलैव प्राप्यिष्यते ! बद्यते तत कौर कृषेन संलग्नम् एन विधेयकानां अकाली दल समर्थनम् कृतागच्छति स्म ! हरसिमरत तम् समितिस्य अंशमासीत् एन विधेयकानां हरित ध्वजाम् अददात् स्म !

पंजाब के किसान इन अध्यादेशों एवं विधेयकों का विरोध कर रहे हैं जिसकी आंच अकाली दल तक पहुंचने लगी है ! बताया जाता है कि कौर कृषि से जुड़े इन विधेयकों का अकाली दल समर्थन करती आ रही थीं ! हरसिमरत उस समिति का हिस्सा थीं जिसने इन विधेयकों को हरी झंडी दी थी !

विधेयके लोकसभायाम् मतदान भवेन पूर्व सा स्व त्यागपत्रम् अददात् ! कौरया: भर्ता दलस्य प्रमुख च् सुखवीर सिंह बादल: अकथयत् तत अकाली दल सर्कारम् बाह्येन समर्थनम् निरन्तर दीयते तु यः कृषक विरोधिन् राजनीतिस्य विरोधम् करिष्यति !

विधेयक पर लोकसभा में वोटिंग होने से ठीक पहले उन्होंने अपना इस्तीफा दे दिया ! कौर के पति एवं पार्टी के प्रमुख सुखबीर सिंह बादल ने कहा कि अकाली दल सरकार को बाहर से समर्थन देना जारी रखेगी लेकिन वह किसान विरोधी राजनीति का विरोध करेगा !

कौरया: त्यागपत्रे पंजाबस्य मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह: अकथयत् तत सः अकाली दलस्य एकम् धूर्तताम् अस्ति ! दल गठबंधनेन पृथक न अभवत् ! अकाली दलम् कृषकानाम् पीड़ेभ्यः चिंतितम् भवित्वा इयम् पद न उत्तिष्ठयत् अपितु तेन स्व राजनीतिम् गृहित्वा चिन्तामस्ति ! इयम् विलम्बात् उत्तिष्ठयत् बहु न्यून पदमस्ति !

कौर के इस्तीफे पर पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने कहा है कि यह अकाली दल की एक और चालबाजी है ! पार्टी गठबंधन से अलग नहीं हुई है ! अकाली दल ने किसानों की समस्याओं से चिंतित होकर यह कदम नहीं उठाया है बल्कि उसे अपनी राजनीति को लेकर चिंता है ! यह देरी से उठाया गया बहुत छोटा कदम है !

अकाली दल राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधनस्य अंशमस्ति तस्य यथांशेन च् हरसिमरत केंद्रीय खाद्य प्रसंस्करणम् मंत्री अस्ति ! इति विधेयकस्य विरोधम् कांग्रेसेन सह बहु विपक्षस्य बहु दलानि कुर्वन्ति ! विपक्षस्य कथनमस्ति तत एतानि विधेयकै: जमाखोरी, कालाबाजारीम् बर्धनं प्राप्यिष्यति तथा उद्योगपतिनि मध्यस्ततानि च् लाभम् भविष्यति यद्यपि कृषका: नष्टम् भविष्यते ! यद्यपि भाजपास्य कथनमस्ति तत कृषि सुधाराय एन विधेयकानां भवं अवश्यक्ताम् इति बदति !

अकाली दल एनडीए का हिस्सा है और उसके कोटे से हरसिमरत केंद्रीय खाद्य प्रसंस्करण मंत्री हैं ! इस बिल का विरोध कांग्रेस सहित कई विपक्ष के कई दल कर रहे हैं ! विपक्ष का कहना है कि इन विधेयकों से जमाखोरी, कालाबाजारी को बढ़ावा मिलेगा तथा उद्योगपतियों एवं बिचौलियों को फायदा होगा जबकि किसान बर्बाद हो जाएंगे ! जबकि भाजपा का कहना है कि कृषि सुधार के लिए इन विधेयकों का होना जरूरी बता रही है !

Want to express your thoughts, write for us contact number: +91-8779240037

Disclaimer The author is solely responsible for the views expressed in this article. The author carry the responsibility for citing and/or licensing of images utilized within the text. The opinions, facts and any media content in them are presented solely by the authors, and neither Trunicle.com nor its partners assume any responsibility for them. Please contact us in case of abuse at Trunicle[At]gmail.com

- Advertisement -

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest article