27.1 C
New Delhi
Friday, July 30, 2021

चिनम् स्वच्छ सन्देशम्, सख्तात् सख्तम् कार्यवाहिम् कृतेन न विमृशिष्यति – राजनाथ सिंह: ! चीन को साफ संदेश, सख्त से सख्त कार्यवाही करने से नहीं हिचकेंगे – राजनाथ सिंह !

Must read

भारतम् चिनम् कलहस्य पृष्ठभूमेन सहैव पूर्वी लद्दाखे एलएसी इत्ये वर्तमान चित्रदे रक्षामंत्री राजनाथ सिंह: राज्यसभायाम् कथनम् अददात् ! सः अकथयत् तत सर्कारम् कश्चितपि मूल्ये देशस्य संप्रभुताम् निरन्तरिष्यति ! सः अकथयत् तत सः देशम् स्पष्ट रूपे कथनम् इच्छति तत यदि अवश्यक्ताम् आगतः तर्हि सख्तात् सख्तम् पद उथ्यतैपि सर्कारम् न विमृशिष्यति !

भारत चीन तनाव की पृष्ठभूमि के साथ साथ पूर्वी लद्दाख में एलएसी पर मौजूदा तस्वीर के बारे में रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह राज्यसभा में बयान दिया ! उन्होंने कहा कि सरकार किसी भी कीमत पर देश की संप्रभुता को बहाल रखेगी ! उन्होंने कहा कि वह देश को स्पष्ट तौर पर बताना चाहते हैं कि अगर जरूरत पड़ी तो कड़े से कड़ा कदम उठाने में भी सरकार नहीं हिचकेगी !

एलएसी इत्ये भ्रमणदे राजनाथ सिंह: अकथयत् तत ए के एंटनी यत् प्रश्नम् पृच्छतु तस्य उत्तरम् इयमस्ति तत स्थितिम् अनुरक्षितम् कृतस्य कालैव कलहम् अभवत् ! इति कारणात् वैमनस्यापि बर्ध्यति ! कोपि शक्तिम् भारतीय सेनाम् भ्रमण कृतेन न प्रतिबंधित शक्नोति !

एलएसी पर गश्त के बारे में राजनाथ सिंह ने कहा कि ए के एंटनी जो सवाल पूछते हैं उसका जवाब यह है कि स्टेट्स को मेंटेंन करने के दौरान ही झड़प हुई है ! इसी वजह से तनाव भी बढ़ा है ! कोई भी ताकत भारतीय फौज को गश्त करने से नहीं रोक सकती है !

राज्यसभायाम् रक्षामंत्री राजनाथ सिंह: अकथयत् तत वर्तमान स्थिते, परिचालन प्रकरणम् संवेदनशीलमस्ति यस्यदे सः विस्तारेण ज्ञानम् न दाशक्नोति ! मह्यं आशामस्ति तत सदन प्रकरणस्य संवेदनशीलताम् अवगमिष्यति ! इति वर्षस्य स्थिते सम्मिलितं सैनिकानि नास्य च् स्थितस्य संदर्भे द्वयो बहु अंतरमस्ति !

राज्यसभा में रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि वर्तमान स्थिति में, ऑपरेशनल मुद्दे संवेदनशील हैं जिनके बारे में वो विस्तार से जानकारी नहीं दे सकते हैं ! मुझे उम्मीद है कि सदन मामले की संवेदनशीलता को समझेगा ! इस वर्ष की स्थिति में शामिल सैनिकों और नहीं के पैमाने के संदर्भ में दोनों बहुत अलग हैं !

वयं वर्तमान स्थितस्य शांतिपूर्ण समाधानाय प्रतिबद्धम् सन्ति ! तेन कालम् वयं सर्वाणि आकस्मिकतै: निवारणाय तत्परम् रहाम: ! सः अकथयत् तत अस्माकं सशस्त्र बलम् अस्य पूर्ण रूपेण पालनम् कुर्वन्ति, इयम् चिनी पक्षेन पारस्परिक न क्रियते !

हम वर्तमान स्थिति के शांतिपूर्ण समाधान के लिए प्रतिबद्ध हैं ! उसी समय, हम सभी आकस्मिकताओं से निपटने के लिए तैयार रहते हैं ! उन्होंने कहा कि हमारे सशस्त्र बल इसका पूरी तरह से पालन करते हैं, यह चीनी पक्ष द्वारा पारस्परिक नहीं किया गया है !

चिनी कार्यवाहिम् अस्माकं विभिन्न द्विपक्षीय सहमतिस्य अवहेलनामस्ति ! चिनेन सैनिकानां सम्मिलनम् १९९३,१९९६ तमस्य च् सहमतिनां विरुद्धम् भवति ! वास्तविक नियंत्रण रेखास्य सम्मानम् सख्तेन च पालन कृतं सीमा क्षेत्रेषु शांति शान्तिस्य च् आधारमस्ति !

चीनी कार्रवाई हमारे विभिन्न द्विपक्षीय समझौतों की अवहेलना है ! चीन द्वारा सैनिकों का सम्‍मिलन 1993 और 1996 के समझौतों के खिलाफ होता है ! वास्तविक नियंत्रण रेखा का सम्मान और कड़ाई से पालन करना सीमा क्षेत्रों में शांति और शांति का आधार है !

इत्यात् पूर्वम् रक्षामंत्री राजनाथ सिंह: लोकसभायाम् अबदत् तत येन प्रकारेण १९६२ तमे चिनम् परस्परं विश्वास सहमतानि नाकृतं स्पष्टम् तदैव तस्य क्रियाकलापम् २०२० तमैपि परिलक्ष्यति !

इससे पहले रक्षामंत्री राजनाथ सिंह लोकसभा में बता चुके हैं कि जिस तरह से 1962 में चीन ने आपसी विश्वास और समझौतों को नकारा ठीक वैसे ही उसका रवैया 2020 में भी दिखाई दे रहा है !

तु भारतीय सेनाम् पूर्ण रूपम् कटिबद्धमस्ति ! सैनिकानाम् मनोबलम् उच्चै अस्ति सर्कारस्य च् पूर्ण प्रयत्नम् अस्ति तत प्रकरणम् शान्तिपूर्ण प्रकारेण निर्णीयते ! इदृशं न भवे आग्राय सर्वाणि विकल्पम् अपवृतमस्ति !

लेकिन भारतीय फौज पूरी तरह तैयार है ! सैनिकों का मनोबल ऊंचा है और सरकार की पूरी कोशिश है कि मामला शांतिपूर्ण तरह से निपटे ! ऐसा न होने पर आगे के लिए सभी विकल्प खुले हुए हैं !

Disclaimer The author is solely responsible for the views expressed in this article. The author carry the responsibility for citing and/or licensing of images utilized within the text. The opinions, facts and any media content in them are presented solely by the authors, and neither Trunicle.com nor its partners assume any responsibility for them. Please contact us in case of abuse at Trunicle[At]gmail.com

- Advertisement -

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest article