23.1 C
New Delhi
Monday, October 18, 2021

कराची एक दिवसं भारतस्य अंशम् भविष्यति, वयं अखंड भारते विश्वासम् कुर्यामि- फडणवीस: ! कराची एक दिन भारत का हिस्सा होगा,हम अखंड भारत में विश्वास करते हैं- फडणवीस !

Must read

महाराष्ट्रे कराची संयावम् गृहित्वा प्रसृत: राजनीतियाःमध्य महाराष्ट्रस्य पूर्व मुख्यमंत्री: भाजपा नेता च् देवेंद्र फडणवीस: अकथयत् तत वयं अखंड भारते विश्वासम् कुर्यामि !

महाराष्ट्र में कराची हलवे को लेकर जारी राजनीति के बीच महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री और बीजेपी नेता देवेंद्र फडणवीस ने कहा कि हम अखंड भारत में विश्वास करते हैं !

फडणवीस: अयम् कथनं पीटीआई इतम् अददात्,यदा तेन मुंबईस्य एकम् घटनायाः प्रति अपृच्छयेत्,यत्र शिवसेनायाः एकम् कार्यकर्ताम् मिष्ठान्नस्य आपणस्य प्रमुखेण आपणस्य नामात् कराची इति शब्दम् निवर्ताय कथ्यतः कुत्रचित इयम् एकम् पकिस्तानी नगरमस्ति !

फडणवीस ने यह बयान पीटीआई को दिया, जब उनसे मुंबई की एक घटना के बारे में पूछा गया, जहां शिवसेना के एक कार्यकर्ता ने मिठाई की दुकान के मालिक से दुकान के नाम से कराची शब्द को हटाने के लिए कहा क्योंकि यह एक पाकिस्तानी शहर है !

सः अग्रम् इयमपि अकथयत् तत एक दिवसं कराची भारतस्य अंशम् भविष्यति ! वयं अखंड भारते (अविभाजित भारतं) विश्वासम् कुर्यामि वयं मान्यामि च् तत एक दिवसं कराची भारतस्य अंशम् भविष्यति ! गुरूवासरम्, शिवसेनायाः एकम् कार्यकर्ताम् बांद्रायाम् प्रतिष्ठित कराची मिष्ठान्नस्य प्रमुखम् अस्य नाम परिवर्तित्वा केचन अन्य भारतीय मराठी वा कृतस्य आदिशवान स्म !

उन्होंने आगे ये भी कहा कि एक दिन कराची भारत का हिस्सा होगा ! हम अखंड भारत (अविभाजित भारत) में विश्वास करते हैं और हम मानते हैं कि एक दिन कराची भारत का हिस्सा होगा ! गुरुवार को, शिवसेना के एक कार्यकर्ता ने बांद्रा में प्रतिष्ठित कराची स्वीट्स के मालिक को इसका नाम बदलकर कुछ और भारतीय या मराठी करने का आदेश दिया था !

तु इति घटनाया क्रुद्ध शिवसेनायाः संजय राउत: स्पष्टम् कृतवान तत इयम् दलस्य आधिकारिक इच्छाम् नासीत् ! राउत: अकथयत्, कराची मिष्ठान्न कराची बेकरी इति च् ६० वर्षेण मुम्बईयां अस्ति ! सम्प्रति तस्य नाम परिवर्तितस्य कश्चित लाभम् नास्ति ! इयम् शिवसेनायाः आधिकारिक इच्छाम् नास्ति !

हालांकि इस घटना से नाराज शिवसेना के संजय राउत ने स्पष्ट किया कि यह पार्टी का आधिकारिक रुख नहीं था ! राउत ने कहा, कराची स्वीट्स और कराची बेकरी 60 साल से मुंबई में हैं ! उनका पाकिस्तान से कोई लेना-देना नहीं है ! अब उनके नाम बदलने का कोई मतलब नहीं है ! यह शिवसेना का आधिकारिक रुख नहीं है !

देवेंद्र फडणवीस: अकथयत् तत देशे लव जिहाद इत्यस्य घटनानि घट्यति,अतएव यः अवरोधाय विधिम् नीयम् उचितमस्ति ! सः कांग्रेस नेता राजस्थानस्य मुख्यमंत्री: च् अशोक गहलोतस्य एकम् आरोपस्य सम्बन्धे अपृच्छयत् प्रश्नस्य उत्तरम् ददाति स्म !

देवेंद्र फडणवीस ने कहा कि देश में लव जिहाद की घटनाएं घट रही हैं, इसलिए इन्हें रोकने के लिए कानून लाना उचित है ! वह कांग्रेस नेता और राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के एक आरोप के संबंध में पूछे गये प्रश्न का उत्तर दे रहे थे !

गहलोत: भाजपायाम् लव जिहाद इति शब्द निर्माणम् साम्प्रदायिक सद्भावम् असाधु कृतस्य च् आरोपम् आरोपयत् ! इत्ये महाराष्ट्रस्य पूर्व मुख्यमंत्री: अकथयत्,अयम् छद्म धर्मनिरपेक्ष जनाः सन्ति ! ते विचार्यन्ति तत हिन्दुषु प्रहारानि कृतम् तानि अपशब्दम् बदनम् धर्मनिरपेक्षताम् अस्ति !

गहलोत ने भाजपा पर लव जिहाद शब्द रचने और सांप्रदायिक सद्भाव को खराब करने का आरोप लगाया है ! इस पर महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा,ये सभी छद्म धर्मनिरपेक्ष लोग हैं ! वे सोचते हैं कि हिंदुओं पर हमले करना और उन्हें अपशब्द बोलना धर्मनिरपेक्षता है !

सः अकथयत्, देशे लव जिहाद इति भव्यते केरलैपि इति वार्ताम् अमान्यत् यत्र भाजपा सत्तायाम् नास्ति ! सः अकथयत्,यदा इति प्रकारस्य वार्तानि सम्मुखम् आगच्छन्ति तर्हि सर्कारस्य जिम्मेवारीम् भवति तत विधिम् अनिर्मयत् ! भाजपा शासित केचन राज्यानि तथाकथित लव जिहाद इत्यस्य अवरोधाय योजनानि अनिर्मयते !

उन्होंने कहा, देश में लव जिहाद हो रहा है और केरल में भी इस बात को माना गया है जहां भाजपा सत्ता में नहीं है ! उन्होंने कहा,जब इस तरह की बातें सामने आती हैं तो सरकार की जिम्मेदारी बनती है कि कानून बनाए ! भाजपा शासित कुछ राज्यों ने तथाकथित लव जिहाद की रोकथाम के लिए योजनाएं बनाई हैं !

Want to express your thoughts, write for us contact number: +91-8779240037

Disclaimer The author is solely responsible for the views expressed in this article. The author carry the responsibility for citing and/or licensing of images utilized within the text. The opinions, facts and any media content in them are presented solely by the authors, and neither Trunicle.com nor its partners assume any responsibility for them. Please contact us in case of abuse at Trunicle[At]gmail.com

- Advertisement -

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest article