27.8 C
New Delhi
Thursday, October 22, 2020

भारत ने किया शौर्य मिसाइल के नए संस्करण का सफल परीक्षण, 800 किमी दूर तक दुश्मन को करेगा ढेर

Must read

सततं अयोध्याया: रामलीलाम् प्राप्नोति दर्शकानां प्रेम ! लगातार अयोध्या की रामलीला को मिल रहा दर्शकों का प्यार !

अयोध्याया: रामलीलायाः मंचनम् अनवरति, १७ अक्टूबर तः आरम्भयत् रामलीला २५ अक्टूबर एव चलिष्यति, रामलीलाम् दूरदर्शनस्य माध्यमेन सम्पूर्ण देशम् पश्यति ! मंचने बहु...

सचिन:-सहवाग: यथास्ति भाजपा-जदयू इत्यस्य युतकम्-राजनाथ सिंह: ! सचिन-सहवाग जैसी है बीजेपी-जेडीयू की जोड़ी-राजनाथ सिंह !

रक्षामंत्री: राजनाथ सिंह: बुधवासरम् अकथयत् तत कन्दुकक्रीड़ायाम् सचिन तेंदुलकरस्य वीरेंद्र सहवागस्य प्रारम्भिक युतकस्य भांति भाजपा - जदयू इत्यस्य गठबंधनमस्ति तथा इति वार्तायां...

जिन रोहिंग्या शरणार्थियों ने मचाया था उत्पात उनके लिए संयुक्त राष्ट्र ने भारत से मांगी मदद, इंसानियत का दिया हवाला

विश्व स्तर पर किस तरह भारत के हिन्दुओ के साथ भेदभाव किया जाता है इसका उदहारण कुछ दिनों पहले प्रकाश में आया...

कोरोना वैक्सीन ट्रायल पर चीन ने बांग्लादेश को दिया धोखा, मदद करने के नाम पर जबरन पैसे की मांग की

मदद के नाम पर लोगो को ठगना अगर सीखना हो तो चीन से सीखना चाहिए दुनिया भर में कई देशो की मदद...

चीन के साथ सीमा पर तनाव के बीच भारत रोज रक्षा तकनीक में कामयाबी हासिल कर रहा है। पिछले कुछ महीनों में, कई डिफेंस और मिसाइल सिस्टम समेत ऐडवांस्ड वेपन सिस्टम का भी टेस्ट किया गया है। हिंदुस्तान टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, बीते 3 अक्टूबर को जिस ‘शौर्य’ मिसाइल का सफल टेस्ट हुआ था, उसे बेड़े में शामिल करने को मंजूरी दे दी गई है। डिफेंस रिसर्च ऐंड डेवलपमेंट ऑर्गनाइजेशन (DRDO) की बनाई यह मिसाइल पनडुब्बी से छोड़ी जाने वाली BA-05 मिसाइल का जमीनी रूप है। ओडिशा के बालासोर में 3 अक्टूबर को गुपचुप तरीके से इसका आखिरी टेस्ट किया गया। इस मिसाइल की तैनाती कहां होगी, इसका फैसला सामरिक बल कमांड (Indian Strategic Forces Command) को करना है। शौर्य मिसाइल के आने से मौजूदा मिसाइस सिस्टम को मजबूती मिलेगी और यह मिसाइल संचालित करने में हल्की और आसान होगी। शौर्य एक ऐसा डिलिवरी सिस्टम है, जिसे एक कम्पोजिट कैनिस्टर में स्टोर किया जा सकता है। इस वजह से मिसाइल को कहीं भी तैनात करना और बाहरी चीजों से बचाना आसान है। यह मिसाइल 50 किलोमीटर की ऊंचाई पर मैच 7 या 2.4 किलोमीटर प्रति सेकेंड की रफ्तार से चलती है। टारगेट को हिट करते वक़्त इसकी रफ्तार मैच (MACH) 4 हो जाती है। इसका वॉरहेड 160 किलोग्राम का है।

मिसाइल की रफ्तार इतनी तेज है कि सीमा पार बैठे दुश्मन के रडार को इसे डिटेक्ट, ट्रैक करने और इंटरसेप्ट करने के लिए 400 सेकेंड्स से भी कम का वक़्त मिलेगा। टू- स्टेज रॉकेट वाली ‘शौर्य’ मिसाइल पहले ऊंचाई हासिल करती है, फिर टारगेट की ओर बढ़ती है। वैसे तो यह बैलिस्टिक मिसाइल सॉलिड फ्यूल से चलती है लेकिन क्रूज मिसाइल की तरह खुद को टारगेट तक गाइड कर सकती है।यह अपने साथ नुक्लियर पेलोड ले जा सकती है। भारत ने पिछले कुछ दिनों में कई मिसाइलें टेस्ट की हैं। सोमवार को सुपरसोनिक मिसाइल असिस्टेड रिलीज ऑफ टॉरपीडो (SMART) का टेस्ट हुआ। उससे पहले 7 सितंबर को हाइपरसोनिक मिसाइल का टेस्ट हुआ था। पिछले महीने MBT अर्जुन टैंक से लेजर-गाइडेड ऐंटी टैंक गाइडेड मिसाइल (AGTM) का टेस्ट भी हुआ था। अगले कुछ हफ्तों में 800 किलोमीटर रेंज वाली ‘निर्भय’ क्रूज मिसाइल का टेस्ट होना है। अब पिनाक रॉकेट्स, लॉन्चर्स और जरूरी उपकरणों के बड़े पैमाने पर उत्पादन की तैयारी है। यह ब्रह्मोस सुपरसोनिक मिसाइल के उन्नत वर्जन का दूसरा सफल परीक्षण था, जो स्वदेश में विकसित एअरफ्रेम और बूस्टर से लैस था। डीआरडीओ के चेयरमैन डॉ. जी सतीश रेड्डी ने सफल परीक्षण पर वैज्ञानिकों की टीम को बधाई देते हुए कहा, इससे सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल में ज्यादा स्वदेशी सामग्री को शामिल किया जाएगा।

Reference –

https://www.hindustantimes.com/india-news/india-successfully-tests-nuclear-capable-shaurya-missile/story-fkYlozVJ5oq1MWO26GOwNN.html

https://www.financialexpress.com/defence/india-successfully-test-fires-nuclear-payload-capable-shaurya-missile/2097197/

Disclaimer The author is solely responsible for the views expressed in this article. The author carry the responsibility for citing and/or licensing of images utilized within the text. The opinions, facts and any media content in them are presented solely by the authors, and neither Trunicle.com nor its partners assume any responsibility for them. Please contact us in case of abuse at Trunicle[At]gmail.com

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest article

सततं अयोध्याया: रामलीलाम् प्राप्नोति दर्शकानां प्रेम ! लगातार अयोध्या की रामलीला को मिल रहा दर्शकों का प्यार !

अयोध्याया: रामलीलायाः मंचनम् अनवरति, १७ अक्टूबर तः आरम्भयत् रामलीला २५ अक्टूबर एव चलिष्यति, रामलीलाम् दूरदर्शनस्य माध्यमेन सम्पूर्ण देशम् पश्यति ! मंचने बहु...

सचिन:-सहवाग: यथास्ति भाजपा-जदयू इत्यस्य युतकम्-राजनाथ सिंह: ! सचिन-सहवाग जैसी है बीजेपी-जेडीयू की जोड़ी-राजनाथ सिंह !

रक्षामंत्री: राजनाथ सिंह: बुधवासरम् अकथयत् तत कन्दुकक्रीड़ायाम् सचिन तेंदुलकरस्य वीरेंद्र सहवागस्य प्रारम्भिक युतकस्य भांति भाजपा - जदयू इत्यस्य गठबंधनमस्ति तथा इति वार्तायां...

जिन रोहिंग्या शरणार्थियों ने मचाया था उत्पात उनके लिए संयुक्त राष्ट्र ने भारत से मांगी मदद, इंसानियत का दिया हवाला

विश्व स्तर पर किस तरह भारत के हिन्दुओ के साथ भेदभाव किया जाता है इसका उदहारण कुछ दिनों पहले प्रकाश में आया...

कोरोना वैक्सीन ट्रायल पर चीन ने बांग्लादेश को दिया धोखा, मदद करने के नाम पर जबरन पैसे की मांग की

मदद के नाम पर लोगो को ठगना अगर सीखना हो तो चीन से सीखना चाहिए दुनिया भर में कई देशो की मदद...

अनुच्छेद 370 हटाने और अपनी राजनितिक दुकान चलाने के लिए फारूख अब्दुल्ला -महबूबा मुफ़्ती ने की थी बैठक

जम्मू-कश्मीर  में अनुच्छेद 370  और 35 ए बहाल करवाने व राज्य के एकीकरण के लिए कश्मीर में  नेशनल कांफ्रेंस के  नेता फारूख...