35.1 C
New Delhi
Tuesday, July 5, 2022

भारतम् प्राप्यत् वृहद सफलताम्, लेजर गाइडेड एंटी टैंक मिसाइल इत्यस्य सफल परिक्षणं ! भारत को मिली बड़ी कामयाबी, लेजर गाइडेड एंटी टैंक मिसाइल का सफल परीक्षण !

Most Popular

चिनेन सिम्नी बर्ध्यति कलहम् सहबसति देश पाकस्य नापाक क्रियाकलापं मध्य भारतीय सेनाम् वृहद उप्लब्धिम् प्राप्यत्, रक्षा अनुसंधान विकास संगठनम् (DRDO) च् एकम् साधु सफलताम् प्राप्तम् कृतवान, DRDO लेजर गाइडेड एंटी टैंक मिसाइल इत्यस्य सफलतम् परिक्षणं क्रियते !

चीन से सीमा पर बढ़ते तनाव और पड़ोसी देश पाक की ना-पाक हरकतों के बीच भारतीय सेना को बड़ी उपलब्धि हासिल हुई है, रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन (DRDO) ने एक बेहतरीन कामयाबी हासिल की है, DRDO ने लेजर गाइडेड एंटी टैंक मिसाइल का सफल परीक्षण कर लिया है !

बद्यते तत मिसाइल त्रय महाल्वम द्रुत लक्ष्ये सटीकेन प्रहारम् कृत स्व क्षमतां स्पष्टयते ! DRDO अहमदनगरे केके रेंज इते एमबीटी अर्जुन टैंक इत्येन लेजर गाइडेड एंटी टैंक मिसाइल इत्यस्य सफलतम् परिक्षणं कृतवान !

बताया जा रहा है कि मिसाइल ने तीन किलो मीटर दूर टारगेट पर सटीक तरीके से वार कर अपनी क्षमता जाहिर कर दी है ! डीआरडीओ ने अहमदनगर में केके रेंज में एमबीटी अर्जुन टैंक से लेजर गाइडेड एंटी टैंक मिसाइल का सफल परीक्षण किया !

रक्षामंत्री: राजनाथ सिंह: इति उप्लब्धे DRDO इत्यस्य पूर्ण दलानि शुभाषयानि अददात् !

रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने इस उपलब्धि पर DRDO की पूरी टीम को बधाई दी है !

ATGM इतम् बहु स्थानेन लांच इति कृत शक्नोति ! इयम् मिसाइल मॉडर्न टैंक इत्येन गृहित्वा भविष्यसि टैंक इतमपि नष्ट कृते सक्षमम् बद्यते तत्रैव एंटी टैंक गाइडेड मिसाइल माध्यमेन न्यून उच्चे उड्डनानि हेलिकॉप्टर्स इतमपि नष्ट कृत शक्नुते !

ATGM को कई प्‍लैटफॉर्म से लॉन्‍च किया जा सकता है ! यह मिसाइल मॉडर्न टैंक से लेकर भविष्‍य के टैंक को भी नेस्‍तनाबूद करने में सक्षम बताई जा रही है वहीं एंटी टैंक गाइडेड मिसाइल के माध्यम से कम ऊंचाई पर उड़ने वाले हेलिकॉप्‍टर्स को भी ढेर किया जा सकता है !

इत्यात् एक दिवस पूर्व अर्थतः भौमवासरम् ओडिशास्य एकम् परीक्षण केंद्रेन ए बी एच वाई ए एस हाइस्पीड एक्सपेंडेबल एरियल टारगेट (HEAT) इत्यस्य सफलतम् उड्डयन परिक्षणम् कृतवान स्म ! इयम् परीक्षण रक्षा अनुसंधान विकास संगठनम् च् (DRDO) अत्रैव पार्श्वे चाँदीपुरम् स्थितम् एकीकृत परीक्षण रेंज (ITR) इत्येन कृतवान स्म !

इससे एक दिन पहले यानि मंगलवार को ओडिशा के एक परीक्षण केन्द्र से ए बी एच वाई ए एस हाईस्पीड एक्सपेंडेबल एरियल टारगेट (HEAT) का सफल उड़ान परीक्षण किया गया था ! यह परीक्षण रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (DRDO) ने यहां पास में चांदीपुर स्थित एकीकृत परीक्षण रेंज (ITR) से किया था !

सूत्राणि अबदन् तत इते विभिन्न राडारों इलेक्ट्रो ऑप्टिक इत्यानि च् प्रणाल्यै: अदृष्टयत् ! रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह: इति उपलब्धे DRDO इतम् शुभाशयः दत्तम् अकथयत् तत ए बी एच वाई ए एस इत्यस्य प्रयोगम् मिसाइल प्रणालीनाम् मुल्यांकनस्य कारणे एकम् लक्ष्यसि रूपे कृत शक्नुते !

सूत्रों ने बताया कि इस पर विभिन्न राडारों और इलेक्ट्रो-आप्टिक प्रणालियों से नजर रखी गई ! रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने इस उपलब्धि पर डीआरडीओ को बधाई देते हुए कहा था कि ए बी एच वाई ए एस का इस्तेमाल मिसाइल प्रणालियों के मूल्यांकन के वास्ते एक लक्ष्य के तौर पर किया जा सकता है !

भौमवासरम् परीक्षणस्य कालम् द्वय प्रदर्शक यानयो सफलतम् परिक्षणं उड्डयन संचालितम् कृतवान ! ए बी एच वाई ए एस इतम् DRDO इत्यस्य एयरोनॉटिकल डेवलप्मेंट इस्टैब्लिशमेंट (ADI) इत्येन डिजाइन इति विकसितम् क्रियते ! वायुयानम् द्वय अंडरस्लैग बूस्टर इत्यस्य प्रयोगम् कृतं उड्डयते !

मंगलवार को परीक्षण के दौरान दो प्रदर्शक यानों की सफलतापूर्वक परीक्षण उड़ान संचालित की गई ! ए बी एच वाई ए एस को डीआरडीओ के एयरोनॉटिकल डेवलप्मेंट इस्टैब्लिशमेंट (एडीई) द्वारा डिजाइन विकसित किया गया है ! वायुयान को दो अंडरस्लैंग बूस्टर का इस्तेमाल करते हुए उड़ाया गया !

इयम् एकम् लघु गैस टर्बाइन इंजन इत्येन चालितमस्ति यस्मिन् च् एकम् इनर्शियल नेविगेशन सिस्टम (INS) मार्गदर्शनाय च् नियंत्रणाय च् एकम् फ्लाइट कंट्रोल कंप्यूटर (FCC) इतमस्ति ! इति यानम् पूर्ण रूपेण स्वचालितम् उड्डनाय प्रोग्राम इति कृतवान !

यह एक छोटे गैस टर्बाइन इंजन द्वारा चालित है और इसमें एक इनर्शियल नेवीगेशन सिस्टम (आईएनएस) और मार्गदर्शन और नियंत्रण के लिए एक फ्लाइट कंट्रोल कम्प्युटर (एफसीसी) है ! इस यान को पूरी तरह से स्वचालित उड़ान के लिए प्रोग्राम किया गया है !

Want to express your thoughts, write for us contact number: +91-8779240037

Disclaimer The author is solely responsible for the views expressed in this article. The author carry the responsibility for citing and/or licensing of images utilized within the text. The opinions, facts and any media content in them are presented solely by the authors, and neither Trunicle.com nor its partners assume any responsibility for them. Please contact us in case of abuse at Trunicle[At]gmail.com

- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest article

This is Gyan