32.1 C
New Delhi
Saturday, June 19, 2021

पीएम मोदी: नमामि गंगे इत्यस्य अनुरूपम् उत्तराखंडे षड परियोजनानां अकरोत् लोकार्पणम् ! पीएम मोदी ने नमामि गंगे के तहत उत्तराखंड में छह परियोजनाओं का किया लोकार्पण !

Must read

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी: भौमवासरम् महत्त्वाकांक्षी परियोजनम् नमामि गंगे इत्यस्य अनुरूपम् उत्तराखंडे हरिद्वार ऋषिकेश बद्रीनाथे च् सीवरेज शोधन संयंत्र इत्यस्य (एसटीपी) लोकार्पणम् अकरोत् ! अस्य अतिरिक्त सः हरिद्वारस्य चंडीघाटे निर्मित गंगा अवलोकन संग्रहालयस्य अपि डिजिटल इति लोकार्पणम् अकरोत् !

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को महत्वाकांक्षी परियोजना नमामि गंगे के तहत उत्तराखंड में हरिद्वार ऋषिकेश और बद्रीनाथ में सीवरेज शोधन संयंत्र (एसटीपी) का डिजिटल लोकार्पण किया ! इसके अलावा उन्होंने हरिद्वार के चंडीघाट में निर्मित गंगा अवलोकन संग्रहालय का भी डिजिटल लोकार्पण किया !

इति अवसरे स्व सम्बोधने प्रधानमंत्री मोदी: अकथयत् तत अद्य गंगाया: निर्मलता सुनिश्चितम् कृतः षड वृहद परियोजनानां लोकार्पणम् अक्रियते यस्मिन् एसटीपी म्यूजियम इति च् यथा परियोजनानि सम्मिलितं सन्ति !

इस अवसर पर अपने संबोधन में प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि आज मां गंगा की निर्मलता सुनिश्चित करने वाले छह बडी परियोजनाओं का लोकार्पण किया गया है जिनमें एसटीपी और म्यूजियम जैसी परियोजनाएं शामिल हैं, जिनकी कुल लागत करीब 521 करोड़ रुपए है !

नमामि गंगे इतम् देशस्य सर्वात् वृहद विस्तृतम् च् नदी संरक्षणम् कार्यक्रम बदितम् प्रधानमंत्री मोदी: अकथयत् तत अद्य देशम् तम् कालेन निस्सरते यदा पैसा इति जलम् भांति प्रवहते स्म तु परिणाम न प्राप्यते स्म ! सम्प्रति पैसा इति जलम् भांति न प्रवहति अपितु पाई पाई इति जले व्ययते !

नमामि गंगे को देश का सबसे बड़ा और विस्तृत नदी संरक्षण कार्यक्रम बताते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि आज देश उस दौर से निकल चुका है जब पैसा पानी की तरह बह जाता था लेकिन नतीजे नहीं मिलते थे ! अब पैसा पानी की तरह नहीं बहता बल्कि पाई-पाई पानी पर लगाया जाता है !

विगत दशकेषु गंगाया: निर्मलतां गृहित्वा वृहद वृहद अभियानम् प्रारम्भयते यस्मिन् न तर्हि जनभागीदारीम् आसीत् नैव च् दूरदर्शिता तस्य च् परिणाम इयम् अभवत् तत गंगाया: जलम् कदापि स्वच्छैव न अभव्यते ! सः अकथयत् यदि गंगाजलम् शुद्धताम् गृहित्वा ततैव पुरातन रूपे स्वीकार्यते तर्हि अद्यापि परिस्थितिम् इत्येव असाधु भवति ! तु वयं नव विचारेण अग्रम् अबर्ध्यत् ! अहम् नमामि गंगे मिशनम् केवलं गंगाया: स्वच्छताम् एव सीमितम् न धृतं अपितु येन देशस्य सर्वात् वृहद विस्तृतम् च् नदी संरक्षणम् कार्यक्रम इति निर्मयते !

बीते दशकों में गंगा की निर्मलता को लेकर बड़े-बड़े अभियान शुरू किए गए जिनमें न तो जनभागीदारी थी और न ही दूरदर्शिता और उसका नतीजा यह हुआ कि गंगा का पानी कभी साफ ही नहीं हो पाया ! उन्होंने कहा अगर गंगाजल की शुद्धता को लेकर वही पुराने तौर तरीके अपनाए जाते तो आज भी हालत उतनी ही बुरी रहती ! लेकिन हम नई सोच से आगे बढ़े ! हमने नमामि गंगे मिशन को केवल गंगा की साफ-सफाई तक सीमित नहीं रखा बल्कि इसे देश का सबसे बडा और विस्तृत नदी संरक्षण कार्यक्रम बनाया !

सर्कारम् चत्वारि दिशेषु एकेन सह कार्यम् अग्रम् अबर्ध्यत् ! प्रथमं गंगायाम् मलिनम् जलम् अवरोधाय एसटीपी जालम् प्रसरण प्रारम्भयते !द्वितीय इदृशं एसटीपी निर्मितम् यत् आगत १०-१५ वर्षस्य अवश्यक्तामपि अपूरयत् ! सः अकथयत् तत तृतीय कार्यम् गंगाया: तटम् बसन् १०० वृहद नगराणि ५००० ग्रामानि च् स्वच्छंदे शौचात् मुक्त कृतं चतुर्थम् च् गंगाया: सहायकम् नदीषु अपि प्रदूषण अवरोधाय पूर्ण शक्तिम् समर्पयते !

सरकार ने चारों दिशाओं में एक साथ काम आगे बढाया ! पहला गंगा में गंदा पानी रोकने के लिए एसटीपी ने जाल बिछाना शुरू किया ! दूसरा ऐसे एसटीपी बनाए जो अगले 10-15 साल की जरूरत भी पूरी कर सकें ! उन्होंने कहा कि तीसरा कार्य गंगा के किनारे बसे 100 बड़े शहरों और 5000 गांवों को खुले में शौच से मुक्त करना और चौथा गंगा की सहायक नदियों में भी प्रदूषण रोकने के लिए पूरी ताकत लगाना है !

मोदी: अकथयत् तत अद्य ३०००० कोटि रूप्यकस्य व्ययेन गंगा परियोजनेषु कार्यम् चलति पूर्णम् अभव्यते वा ! उत्तराखण्डस्य उल्लेखम् कृतं सः अकथयत् तत राज्ये इति अभियानस्य अनुरूपम् वृहद परियोजनानि लगभगम् पूर्णम् अभव्यते पूर्व षड वर्षेषु एव च्उत्तराखंडे एसटीपी इत्यस्य क्षमतां चत्वारि गुणित अभव्यते !

मोदी ने कहा कि आज 30,000 करोड़ रुपए की लागत से गंगा परियोजनाओं पर काम चल रहा है या पूरा हो चुका है ! उत्तराखंड का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि राज्य में इस अभियान के तहत बडी परियोजनाएं करीब करीब पूरी हो चुकी हैं और पिछले छह वर्षों में ही उत्तराखंड में एसटीपी की क्षमता चार गुना हो चुकी है !

गंगोत्री, केदारनाथ बद्रीनाथात् गृहित्वा हरिद्वारैव गंगा नद्यां १३० नालकम् पतति स्म तस्मिन् इत्येन अधिकतानि अवरोधयते ! यस्मिन् ऋषिकेशेन निकषा मुनिस्य रेती क्षेत्रस्य चन्द्रेश्वर नगर नालकमपि सम्मिलितम् सन्ति ! सः अकथयत् तत अद्येन चन्द्रेश्वर नगरे देशस्य प्रथम चतुर्थपंक्तिम् सीवरेज संयंत्रम् इति आरम्भयते !

गंगोत्री, केदारनाथ और बद्रीनाथ से लेकर हरिद्वार तक गंगा नदी में 130 नाले गिरते थे जिनमें से अधिकतर को रोक दिया गया है ! इनमें ऋषिकेश से सटे मुनि की रेती क्षेत्र का चंद्रेश्वर नगर नाला भी शामिल है ! उन्होंने कहा कि आज से चंद्रेश्वर नगर में देश का पहला चार मंजिला सीवरेज संयंत्र शुरू हो चुका है!

हरिद्वारैपि इदृशं २० इत्येन अधिकम् नालकानि अवरुद्धम् अक्रियते ! मोदी: अकथयत् तत प्रयागराजस्य भांति अग्र वर्षम् हरिद्वारे भवितः कुम्भस्य कालमपि श्रद्धालुनि निर्मल गंगाया: अनुभवम् भविष्यति ! सः अकथयत् तत नमामि गंगे इत्यस्य अनुरूपम् गंगाया: कूले शतानि घट्टानां सौंदर्यीकरणम् क्रियते गंगा विहाराय च् आधुनिकम् रिवरफ्रंट इतैपि निर्मयते ! सः अकथयत् तत हरिद्वारे तर्हि गंगा रिवरफ्रंट इति निर्मयित्वा निर्मितमस्ति गंगा म्यूजियम इत्यस्य च् निर्माणेन हरिद्वारस्य आकर्षणम् अभिबृद्धिष्यते च् !

हरिद्वार में भी ऐसे 20 से ज्यादा नालों को बंद किया जा चुका है ! मोदी ने कहा कि प्रयागराज की तरह ही अगले साल हरिद्वार में होने वाले कुंभ के दौरान भी श्रद्धालुओं को निर्मल गंगा का अनुभव होगा ! उन्होंने कहा कि नमामि गंगे के तहत गंगा के किनारे सैकड़ों घाटों का सौंदर्यीकरण किया जा रहा है और गंगा विहार के लिए आधुनिक रिवरफ्रंट भी तैयार किया जा रहा है ! उन्होंने कहा कि हरिद्वार में तो गंगा रिवर फ्रंट बनकर तैयार है और गंगा म्यूजियम के बनने से हरिद्वार का आकर्षण और बढ़ जाएगा !

Disclaimer The author is solely responsible for the views expressed in this article. The author carry the responsibility for citing and/or licensing of images utilized within the text. The opinions, facts and any media content in them are presented solely by the authors, and neither Trunicle.com nor its partners assume any responsibility for them. Please contact us in case of abuse at Trunicle[At]gmail.com

- Advertisement -

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest article