17.1 C
New Delhi
Wednesday, November 30, 2022

आतंकस्य प्रशिक्षण केंद्र अनिर्मयत् शोपियाया: एकम् धार्मिक विद्यालयम्, सम्प्रति सुरक्षा संस्थानानां दृष्टेषु ! आतंक के प्रशिक्षण केंद्र बना शोपिया का एक धार्मिक स्कूल, अब सुरक्षा एजेंसियों के नजर में !

Most Popular

साभार नवभारत टाइम्स :-

दक्षिण कश्मीरम् आतंकिनानां गढ़स्य रूपे मान्यते ! सेनाया: अन्वेषणे यत् अतंकिम् हन्यते तस्मिन् बहवस्य सम्बन्ध दक्षिण कश्मीरस्य शोपियां,पुलवामा,अनंतनाग त्रालेन च् भवति ! सम्प्रति शोपियाया: एकम् इदृशं धार्मिक विद्यालयदा ज्ञानम् सम्मुखम् आगतवान !

दक्षिण कश्मीर आतंकवादियों के गढ़ के रूप में माना जाता है ! सेना के ऑपरेशन में जो आतंकी मारे जाते हैं उनमें ज्यादातर का संबंध दक्षिण कश्मीर के शोपियां, पुलवामा, अनंतनाग एवं त्राल से होता है ! अब शोपियां के एक ऐसे धार्मिक स्कूल के बारे में जानकारी सामने आई है !

यत्रात् इदृशं त्रयोदश छात्र निस्सरन्ति यत् उपरांते भिन्न-भिन्न आतंकी संगठनै: संलग्नम् प्राप्तवान ! आधिकारीणां कथनमस्ति तत इति विद्यालयेन निःसृतम् १३ छात्र उपरांते आतंकी सँगठनेषु सम्मिलितं अभवत् ! इति विस्मृतम् उद्घाटनस्य उपरांत इयम् धार्मिक विद्यालय सुरक्षा संस्थानानां लक्ष्ये आगतवान !

जहां से ऐसे 13 छात्र निकले हैं जो बाद में अलग-अलग आतंकवादी संगठनों से जुड़े पाए गए ! अधिकारियों का कहना है कि इस स्कूल से निकले 13 छात्र बाद में आतंकवादी संगठनों में शामिल हो गए ! इस चौंकाने वाले खुलासे के बाद यह धार्मिक स्कूल सुरक्षा एजेंसियों के निशाने पर आ गया है !

इति धार्मिक विद्यालयेन पठनम् कृतमेषु सज्जाद भट्टस्य नाममपि सम्मिलितं आसीत् ! भट्ट: फरवरी २०१९ तमे सीआरपीएफ इत्यस्य समूहे अभवत् आत्मघाती प्रहारे सम्मिलितं आसीत् ! इति प्रहारे सीआरपीएफ इत्यस्य ४० जवान हुतात्मा अभवत् !

इस धार्मिक स्कूल से पढ़ाई करने वालों में सज्जाद भट्ट का नाम भी शामिल था ! भट्ट फरवरी 2019 में सीआरपीएफ के काफिले पर हुए आत्मघाती हमले में शामिल था ! इस हमले में सीआरपीएफ के 40 जवान शहीद हुए !

इति धार्मिक विद्यालये बहवः कुलगाम, पुलवामा अनंतनाग च् जनपदात् छात्र पठनाय आगच्छति ! गुप्त संस्थानि इति क्षेत्राणि आतंकस्य कारणेन संवेदनशीलम् बहु च् आतंकी समूहेषु स्थानीय जनानां भर्तीया: केन्द्रम् मान्यति !

इस धार्मिक स्कूल में ज्यादातर कुलगाम, पुलवामा और अनंतनाग जिलों से छात्र पढ़ाई करने के लिए आते हैं ! खुफिया एजेंसियां इन क्षेत्रों को आतंकवाद के लिहाज से संवेदनशील तथा अनेक आतंकी समूहों में स्थानीय लोगों की भर्ती का केंद्र मानती हैं !

आधिकारीणां कथनमस्ति तत पूर्व इति धार्मिक विद्यालये उत्तरप्रदेश, केरल तेलंगानाया च् बालकाः पठनाय आगच्छन्ति स्म, तु पूर्व वर्षम् राज्यात् अनुच्छेद ३७० उन्मूलनस्य उपरांत अस्य संख्याम् लगभगम् समाप्तम् अभवत् !

अधिकारियों का कहना है कि पहले इस धार्मिक स्कूल में उत्तर प्रदेश, केरल और तेलंगाना से बच्चे पढ़ाई करने के लिए आते थे, लेकिन पिछले साल राज्य से अनुच्छेद 370 हटने के बाद इनकी संख्या करीब-करीब समाप्त हो गई है !

एकम् अधिकारीस्य कथनमस्ति तत वस्तुतः इति विद्यालयस्य कार्मिक: बहवः च् छात्र आतंक प्रभावितं जनपदानि शोपियां पुलवामाया च् आगच्छन्ति, इदृशेषु अत्र आतंकस्य विचारम् प्रसर्ष्यते इति विचारेण च् अन्य क्षेत्रै: आगतम् छात्रमपि प्रभावितं भविष्यते !

एक अधिकारी का कहना है कि चूंकि इस स्कूल का स्टॉफ और ज्यादातर छात्र आतंकवाद प्रभावित जिलों शोपियां एवं पुलवामा से आते हैं, ऐसे में यहां आतंकवाद की विचारधारा फैल रही होगी और इस विचारधारा से अन्य इलाकों से आने वाले छात्र भी प्रभावित हो रहे होंगे !

पूर्व वर्षम् १४ फरवरी इतम् पुलवामायाम् सीआरपीएफ इत्यस्य समूहे आत्मघाती प्रहारे ४० जवान हुतात्मा अभवत् स्म ! इति प्रकरणस्य अन्वेषणस्य कालम् गुप्त संस्थानि ज्ञातम् अभवत् तत प्रहारे प्रयोगम् वाहनस्य स्वामी भट्ट: शोपियां जनपदस्य इत्येव धार्मिक शिक्षण संस्थानात् पठनस्य अकरोत् स्म !

पिछले साल 14 फरवरी को पुलवामा में सीआरपीएफ के काफिले पर आत्मघाती हमले में 40 जवान शहीद हो गए थे ! इस मामले की जांच के दौरान खुफिया एजेंसियों को पता चला कि हमले में इस्तेमाल वाहन के मालिक भट्ट ने शोपियां जिले के इसी धार्मिक शिक्षण संस्थान से पढ़ाई की थी !

अस्य आतंके असंलिप्तयत् छात्राणां अनुक्रमणिके नव नाम जुबैर नेंगरूस्य संलग्नासीत् ! प्रतिबंधित अल-बद्र इति आतंकी संगठनस्य कथितं प्रमुखः नेंगरू इति वर्षम् अगस्त इते अहन्यत् स्म ततापि च् अत्रस्य छात्र आसीत् !

इसके आतंकवाद में लिप्त रहे छात्रों की फेहरिस्त में ताजा नाम जुबैर नेंगरू का जुड़ा था ! प्रतिबंधित अल-बद्र आतंकी संगठन का तथाकथित कमांडर नेंगरू इस साल अगस्त में मारा गया था और वह भी यहीं का छात्र था !

एकम् आंतरिक सूचनास्य अनुरूपम् इदृशं न्यूनात्न्यून १३ सुचिबद्धम् आतंकी सहस्राणि च् ओवर ग्राउंड वर्कर्स (ओजीडब्ल्यू) इति सन्ति यत् तर्हि वा इति संस्थानस्य छात्र सन्ति पूर्व वा यस्मिन् अपाठ्यत् ! वर्तमानैव बारामूलाया: एकम् युवक: लुप्तम् अभवत् स्म यत् अवकशानि समाप्त भवस्य उपरांत गृहात् विद्यालयं आगच्छति स्म ! उपरांते ज्ञातम् अभवत् तत सः आतंकी समूहस्य अंशम् अनिर्मयत् !

एक आंतरिक रिपोर्ट के अनुसार ऐसे कम से कम 13 सूचीबद्ध आतंकी और सैकड़ों ओवर ग्राउंड वर्कर्स (ओजीडब्ल्यू) हैं जो या तो इस संस्थान के छात्र हैं या पहले इसमें पढ़ चुके हैं ! हाल ही में बारामूला का एक युवक लापता हो गया था जो छुट्टियां खत्म होने के बाद घर से स्कूल आ रहा था ! बाद में पता चला कि वह आतंकी समूह का हिस्सा बन गया है !

आधिकारीणां मान्यतमस्ति तत इति प्रकारस्य संस्थान हिज्बुल मुजाहिदीन, जैश-ए-मोहम्मद, अल-बद्र लश्कर-ए-तैयबा इति च् यथा आतंकी सँगठनेषु भर्तिस्य केन्द्रमस्ति यत्र अहन्यत् आतंकिनि नायकस्य भांति बद्यते !

अधिकारियों का मानना है कि इस तरह के संस्थान हिज्बुल मुजाहिदीन, जैश-ए-मोहम्मद, अल-बद्र और लश्कर-ए-तैयबा जैसे आतंकी संगठनों में भर्ती के केंद्र हैं जहां मारे गये आतंकियों को नायक की तरह बताया जाता है !

एकम् अधिकारिम् अकथयत्, इयम् कारकम् छात्राणां मस्तिष्के अमिट चिन्हम् चिन्हयति समाजम् च् मित्रै: च् प्रभावितं भवित्वा ते आतंकस्य प्रति गच्छति ! बहु प्रकरणेषु ज्ञातम् अभवत् तत इति प्रकारस्य धार्मिक संस्थानां सम्मिलितं भवाय उद्वेगयति !

एक अधिकारी ने कहा, ये कारक छात्रों के दिमाग में गहरी छाप छोड़ते हैं और समाज तथा दोस्तों से प्रभावित होकर वे आतंकवाद की तरफ आते हैं ! कई मामलों में पता चला है कि इस तरह के धार्मिक संस्थानों की शिक्षा छात्रों को आतंकी समूहों में शामिल होने के लिए उकसा रही है !

Want to express your thoughts, write for us contact number: +91-8779240037

Disclaimer The author is solely responsible for the views expressed in this article. The author carry the responsibility for citing and/or licensing of images utilized within the text. The opinions, facts and any media content in them are presented solely by the authors, and neither Trunicle.com nor its partners assume any responsibility for them. Please contact us in case of abuse at Trunicle[At]gmail.com

- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest article

This is Gyan