31.6 C
New Delhi
Tuesday, September 21, 2021

योगी इत्यस्य हैदराबादस्य नाम परिवर्तनम् कथने ओवैसीयाः उद्विग्नताम् ! योगी के हैदराबाद के नाम बदलने वाले बयान पर ओवैसी की बौखलाहट !

Must read

हैदराबादे नगर निगम निर्वाचनेन पूर्व प्रचाराय प्राप्तम् उत्तरप्रदेशस्य मुख्यमंत्री: योगी आदित्यनाथः एकम् वादम् जन्म अददात् !

हैदराबाद में नगर निगम चुनाव से पहले प्रचार के लिए पहुंचे उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने एक नई बहस को जन्म दे दिया !

सः हैदराबादस्य नाम परिवर्तित्वा भाग्यनगर इति कृतस्य वार्ताम् कृतः ! इत्ये सम्प्रति ए आई एम आई एम प्रमुखः असदुद्दीन ओवैसीयाः प्रतिक्रियाम् आगतवान ! ओवैसी: जनैः अस्य उत्तरे भाजपाम् पराजितस्य याचनाम् कृतमस्ति !

उन्होंने हैदराबाद का नाम बदलकर भाग्यनगर करने की बात की ! इस पर अब AIMIM प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी की प्रतिक्रिया आई है। ओवैसी ने लोगों से इसके जवाब में बीजेपी को हराने की अपील की है !

ओवैसी: अकथयत् किं भवन्तः इछन्तु तत हैदराबादस्य नाम परिवर्तयते ? अहम् भवद्भिः हैदराबादस्य स्वजनैः पृच्छामि, कृपया मह्यं उत्तरतु तत किं भवन्तः इच्छन्तु तत अस्माकं नगरस्य नाम कश्चित अन्य नामेण परिवर्तयते ? यदि भवन्तः न इच्छन्तु तर्हि आगमम् निर्वाचने भाजपाम् पराजयन्ते !

ओवैसी ने कहा क्या आप चाहते हैं कि हैदराबाद का नाम बदल दिया जाए ? मैं आपसे हैदराबाद के अपने लोगों से पूछ रहा हूँ, कृपया मुझे जवाब दें कि क्या आप चाहते हैं कि हमारे शहर का नाम किसी अन्य नाम से बदल दिया जाए ? यदि आप नहीं चाहते हैं तो आगामी चुनाव में बीजेपी को हराएं !

उत्तरप्रदेशस्य सीएम योगी: अकथयत् तत मया पृच्छामि स्म किं हैदराबाद भाग्यनगर भवशक्नोति ! अहम् कथयामि किंन,अहम् कथयामि पश्य,उत्तरप्रदेशे भाजपाया: सर्कारम् आगमत् ! अहम् फैजाबादम् अयोध्याम् कृतवान !

यूपी के सीएम योगी ने कहा कि लोग मुझसे पूछ रहे थे क्या हैदराबाद भाग्यनगर हो सकता है ! मैंने कहा क्यों नहीं, हमने कहा देखिए, उत्तर प्रदेश में भाजपा की सरकार आई ! हमने फैजाबाद को अयोध्या कर दिया !

इलाहाबादम् प्रयागराजम् कृतवान तर्हि पुनः हैदराबाद भाग्यनगर किं न भवशक्नोति ? भाग्यनगरं तर्हि सम्पन्नतायाः विकासस्य च् प्रतीकमस्ति !

इलाहाबाद को प्रयागराज कर दिया तो फिर हैदराबाद भाग्य नगर क्यों नहीं हो सकता ? भाग्यनगर तो सम्पन्नता और विकास का प्रतीक है !

मुख्यमंत्री: योगी आदित्यनाथ: हैदराबादे तेलंगाना राष्ट्र समितियाः (TRS) सरकारं ऑल इंडिया मजलिस ए इत्तेहादुल मुस्लिमीन इत्ये (एआईएमआईएम) बहु प्रहारम् कृतवान !

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ हैदराबाद में तेलंगाना राष्ट्र समिति (TRS) की सरकार और ऑल इंडिया मजलिस ए इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) पर खूब बरसे !

सः अकथयत् तत एआईएमआईएम इत्यस्य द्वय भ्रातौ सदैव असाधु बदत: टीआरएस इतम् च् एआईएमआईएम यथा भण्ड: अराजकतां प्रसाराय प्राप्यते !

उन्होंने कहा कि एआईएमआईएम के दो भाई हमेशा उलटा बोलते हैं और टीआरएस को एआईएमआईएम जैसे नमूने अराजकता फैलाने के लिए मिल गए हैं !

योगी: अकथयत् तत टीआरसी सर्कारम् एआईएमआईएम इत्येन सह गठबंधनं कृत जनानां भावनाया सह दीपस्तम्भम् कृतवान ! सः टीआरसी एआईएमआईएम इत्यो च् भ्रष्टाचारेण सह बहु गम्भीर्य आरोपम् आरोपयत् !

योगी ने कहा कि टीआरएस सरकार ने एआईएमआईएम के साथ गठबंधन कर जनता की भावना के साथ खिलवाड़ किया है ! उन्होंने टीआरएस और एआईएमआईएम पर भ्रष्टाचार सहित कई गंभीर आरोप लगाए !

शीघ्रेवे अभवत: बिहार विधानसभा निर्वाचनस्य उल्लेखम् कृतः योगी: अकथयत् एआईएमआई एम इत्यस्य एक: विधायकः यदा संविधानस्य शपथग्रहणस्य वार्ता आगतवान,तर्हि सः हिंदुस्तान बदेन् निषेधयतु !

हाल ही में हुए बिहार विधानसभा चुनाव का जिक्र करते हुए योगी ने कहा कि एआईएमआईएम के एक विधायक ने जब संविधान की शपथ लेने की बात आई, तो उन्होंने हिंदुस्तान बोलने से इनकार कर दिया !

हिंदुस्तानस्य नामे शपथम् न ग्रहणतु ! हिंदुस्ताने वसिष्यन्ति, हिन्दुस्तानस्य खादिष्यन्ति,तु यदा संविधानस्य शपथ हिंदुस्तानस्य नामे ग्रहणस्य वार्ता आगमिष्यति,तर्हि हिंदुस्तान नाम बदते संकोचम् करिष्यन्ति,इयमेव एआईएमआईएम इत्यस्य तत्वमस्ति !

हिंदुस्तान के नाम पर शपथ नहीं ली ! हिंदुस्तान में रहेंगे, हिंदुस्तान का खाएंगे, लेकिन जब संविधान की शपथ हिंदुस्तान के नाम पर लेने की बात आएगी, तो हिंदुस्तान नाम बोलने में संकोच करेंगे, यही एआईएमआईएम की असलियत है !

Disclaimer The author is solely responsible for the views expressed in this article. The author carry the responsibility for citing and/or licensing of images utilized within the text. The opinions, facts and any media content in them are presented solely by the authors, and neither Trunicle.com nor its partners assume any responsibility for them. Please contact us in case of abuse at Trunicle[At]gmail.com

- Advertisement -

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest article